कर्मचारी की मौत , पुलिस छावनी बना नंदप्रयाग

0
1934

नंदप्रयाग

नगर पंचायत नंदप्रयाग में तैनात एक कर्मचारी की कर्णप्रयाग में उपचार के दौरान मौत हुई है। परिजनों ने  अध्यक्ष पर कर्मचारी को प्रताड़ित करने का आरोप लगा है। जबकि मृतक कर्मचारी तीन दिनों से कार्यालय से अवकाश में था।  पुलिस मामले की जांच कर रही है। तनाव को देखते हुए नगर पंचायत काया्रलय में पुलिस व पीएसी तैनात की गई है। मामले में मृतक की पत्नी ने कोतवाली चमोली में तहरीर देकर अध्यक्ष पर पति को प्रताड़ित करने का आरोप लगाया और कहा कि बीते दिन अवकाश के बाद भी उन्हें कार्यालय बुलाकर पुलिस की मौजूदगी में प्रताड़ित किया गया। मृतक की पत्नी कुसुम देवी निवासी शकुंतलाबगड़ नंदप्रयाग का कहना है कि इसी तनाव में उनके पति की घर आने के बाद तबीयत बिगड़ी और हार्ट अटैक पड़ने से मौत हुई है। नगर पंचायत अध्यक्ष किरन रौतेला का कहना है कि वह वह बुधवार को नगर पंचायत के कार्य से जिला मुख्यालय गोपेश्वर आई थी। तीन बजे दोपहर में ट्रेजरी के बिलों को लेकर वह नगर पंचायत कार्यालय गई तो नगर पंचायत कार्यालय में अधिशासी अधिकारी व चतुर्थ श्रेणी नियमित कर्मचारी मौजूद नहीं थे। नगर पंचायत कार्यालय में दो अाउटसोर्स के ही कर्मचारी मौजूद थे। जबकि कंप्यूटर अापरेटर वीरेंद्र सिंह विधिवत अवकाश पर थे।  मेरे द्वारा दूरभाष पर अधिशासी अधिकारी से संपर्क करना चाहा तो अधिशासी अधिकारी द्वारा बार बार फोन नहीं उठाया गया। चालक के नंबर पर फोन करने के बाद उसे अधिशासी अधिकारी को लेने भेजा। परंतु अधिशासी अधिकारी द्वारा आने से इंकार किया। मेरे द्वारा थाने में अधिशासी अधिकारी के गायब होने की सूचना दी गई। इस बीच नगर पंचायत की विद्युत काट दी गई। जबकि पूरे नंदप्रयाग नगर में इस दौरान बिजली थी। बिजली जाने के दौरान नगर पंचायत में जनरेटर की सुविधा है। परंतु जनरेटर रूम की चाबी भी इस दौरान गायब की गई। उन्होंने कहा कि  मृतक कर्मचारी वीरेंद्र सिंह रावत तीन दिनों से अवकाश पर थे। ऐसे में उन्हें अवकाश के दिन कार्यालय बुलाने का सवाल ही पैदा नहीं होता। उन्होंने तो कार्य पर मौजूद अधिशासी अधिकारी को बुलाया था। अध्यक्ष का कहना है कि मेरे द्वारा कार्यालय से गायब अधिशासी अधिकारी को लेकर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई गई। जिस पर पुलिस नगर पंचायत कार्यालय में अाई थी। इस दौरान मृतक कर्मचारी को कार्यालय बुलाया ही नहीं गया। बअध्यक्ष ने कहा कि कुछ लोग राजनीतिक रंग देकर मामले को तूल दे रही है। मामले की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। चमोली के कोतवाल दीपक रावत का कहना है कि मृतक का पोस्टमार्टम कराया गया है। तहरीर पर जांच की जा रही है।
………………………….

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here