शिव मंदिर में राम कथा के श्रोता बने बदरीनाथ के रावल व नायब रावल

0
379

गोपेश्वर
बदरीनाथ धाम के रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी व नायब रावल शंकरन नंबूदरी ने नंदप्रयाग के पास गंगतोली बगड़ में गंगेश्वर महादेव के मंदिर में अभिषेक पूजा कर राम कथा में शिरकत की। उन्होंने धर्म प्रचार के लिए कथाओं का विशेष महत्व बताया। कथा में राम जन्म से लेकर शिक्षा ग्रहण करने पर विस्तार से कथा वाचक ने प्रकाश डाला।
अलकनंदा नंदाकिनी के संगम नंदप्रयाग के पास राजबगठी में गंगेश्वर महादेव में पूजा अर्चना के लिए पहुंचे बदरीनाथ धाम के मुख्य पुजारी रावल ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी व नायब रावल शंकरन नंबूदरी का भक्तों ने पुष्प वर्षा से स्वागत किया। बदरीनाध धाम के मुख्य पुजारी ईश्वरी प्रसाद नंबूदरी ने शिव मंदिर में राम कथा के आयोजन को धर्म क्षेत्र में विशेष बताते हुए भक्तों को आर्शीवाद दिया। उन्होंने अपने संबोधन में भगवान नारायण व शिव की महिमा बताते हुए कहा कि भगवान ने अर्धम के नाश के लिए बार – बार अवतार लिया है। राम कथा में पहुंचे श्री बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के सीईओ बीडी सिंह ने राम जी के जीवन आदर्श को अपनाने की अपील की ।
राम कथा के चौथे दिन कथा को आगे बढ़ाते हुए आचार्य विजय पांडे ने कहा कि भगवान शिव ने पार्वती के प्रश्न करने पर भगवान रामचंद्र जी के जन्म कारण व बाल लीलाओं का वर्णन किया है। व्यास आचार्य विजय पांडे ने श्रोताओं को रामचंद्र जी के चूड़ाक्रम यज्ञोपवित संस्कार के बाद शिक्षा के लिए गुरु घर जाकर संपूर्ण विद्याएं सीखने को लेकर विस्तार से कथा के माध्यम से लोगों को बताया। कथा वाचक आचार्य विजय पांडे ने कहा कि रामचंद्र जी इस कथा में संसार को पवित्र आचरण का संदेश है।
इस अवसर पर पंडित मनोज पांडेय , सुबोध सती पंचांग पूजन व भद्रपूजन किया। इस अवसर पर बदरीनाथ केदारनाथ मंदिर समिति के मुख्य कार्याधिकारी बीडी सिंह , जोशीमठ के प्रमुख प्रकाश रावत , नारायण नंबूदरी , इंद्र सिंह रावत , योगेंद्र सिंह डिकोला , बलबंत सिंह , सुरेंद्र सिंह , सुदर्शन कठैत, जितेंद्र सिंह सहित कई लोग उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here